सब्जियों की खेती

आलू की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

आलू की उन्नत खेती
Written by Vijay Dhangar

आलू की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

भारत में आलू, सत्रहवीं सदी से पुर्तगालियों द्वारा लाया गया था जो प्रारम्भ में केवल किचन गार्डन में ही उगाया जाता था परन्तु इसके स्वाद व पौष्टिकता ने इसको जन-जन में लोकप्रिय बना दिया। आज सब्जियों में आलू (Potato Cultivation) का एक महत्वपूर्ण स्थान हैं इसमें विभिन्न पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं।

आलू की उन्नत खेती

विश्व में भारत, आलू का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश बन गया हैं। यह दुनिया के कुल आलू उत्पादन का करीब 4% आलू उत्पादित करता हैं। आलू उत्पादन में पिछले 5-7 दशकों में अभूतपूर्व प्रगति हुई हैं। इस समयावधि में आलू उत्पादन में 15 गुना एवं उत्पादकता में लगभग 3 गुना वृद्धि हुई हैं।

आलू की लगभग 72% खेती सिंध-गंगा के मैदानी क्षेत्रों में तकरीबन 10% पहाड़ी क्षेत्रों में तथा शेष 4% दक्षिण-पूर्व के मैदानी मध्य एवं भारतीय पठारी क्षेत्रों में की जाती है।

आलू एक अधिक आदान चाहने वाली फसल हैं यदि इसकी उत्पादन तकनीकी पर ध्यान दिया जाये तो कृषकगण आलू की फसल लगाकर अधिक से अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं साथ ही सकारात्मक आर्थिक लाभ से विकास की और अग्रसर हो सकते हैं।

Read also:- कालमेघ की उन्नत खेती एवं औषधीय महत्व

जलवायु:-

आलू की फसल विभिन्न जलवायु क्षेत्रों में सफलतापूर्वक लगाई जा सकती हैं। तापक्रम व जल आलू के उत्पादन को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण कारक हैं। आलू के अच्छे अंकुरण के लिए 24-25° सेल्सियस एवं उत्पादन एवं वानस्पतिक वृद्धि के लिए 14-20 ° सेल्सियस औसत तापमान चाहिए एवं कन्द निर्माण के लिए 14-20° सेल्सियस औसत तापक्रम चाहिए।

भूमि की तैयारी:-

आलू की फसल हल्की से मध्यम भारी सभी प्रकार की भूमि में ली जा सकती हैं परन्तु उच्च जीवांश युक्त अक्की उर्वर, समतल एवं अच्छे जल निकास वाली बलुई दोमट से चिकनी दोमट भूमि उत्तम रहती हैं। ऐसी मृदाए जिनका पि.एच. मान 5-6 हो तो उत्तम रहती हैं। क्षारीय, लवणीय एवं अत्यधिक अम्लीय भूमि आलू की खेती के लिए उपयुक्त नहीं होती हैं क्योंकि यह विभिन्न प्रकार की बिमारियों को बढ़ावा देती हैं।

खेत की तैयारी हेतु सर्वप्रथम पलेवा देकर खेत में उचित नम अवस्था होने पर एक बार मिट्टी पलटने वाले हल से गहरी जुताई करके तथा 2-3 बार हैरो या देशी हल से खेत की गहरी जुताई कर मिट्टी को बारीक़ एवं भुरभुरी कर लेना चाहिए, साथ-साथ पाटा लगाकर मिट्टी को समतल एवं बारीक़ करना चाहिए जिससे नमी का उचित संरक्षण भी होता हैं। यदि पलेवा देकर बुवाई नहीं कर के तो बुवाई के तुरंत बाद सिंचाई करना चाहिए। गर्मी की गहरी जुताई ही लाभदयक रहती हैं। अतः गर्मी में गहरी जुताई अवश्य करें। साथ ही एक ही खेत में लगाकर कई वर्षों तक फसल न लेवे।

Read also:- नागरमोथा की औषधीय खेती एवं उत्पादन तकनीक

बुवाई का उचित समय:-

आलू की बुवि भारत के विभिन्न क्षेत्रों में जलवायु के अनुसार अलग-अलग समय पर की जाती हैं। मैदानी क्षत्रों में यह शीत ऋतू में एवं पहाड़ी क्षेत्रों में ग्रीष्म ऋतू में लगाई जाती हैं। अतः मैदानी क्षेत्रों में इसकी बुवाई अक्टुम्बर-नवम्बर माह में की जाती हैं एवं पहाड़ी क्षेत्रों में बुवाई फरवरी से अप्रेल माह के बिच की जाती हैं।

बीज कंदो का चुनाव:-

  • आलू के बीज कंदो का चुनाव करना एक महत्वपूर्ण कार्य क्योंकि यह एक अत्यंत प्रभावी कारक हैं जो उत्पादकता को बहुत अधिक प्रभावित करता हैं। अतः आलू के बीज कंदों का चयन करते समय निम्न बातों को ध्यान में रखना चाहिए।
  • बीज कंद उन्नत प्रमाणित एवं क्षेत्रीय संस्तुति के अनुरूप ही किस्मों का चुनाव करें।
  • सड़े गले एवं रोगग्रस्त कंदों को बुवाई हेतु काम में न लेवे केवल स्वस्थ कंदों का ही चयन करें।
  • बीज आलू को बुवाई से 4-10 दिन पहले शीतगृह से निकालकर पहले 24 घंटे तक अभिशीतन कक्ष रखें। ताकि बीज सामान्य ताप पर आ सकें। इसके पश्चात अंकुरण हेतु बीज आलू को पतली तह में छायादार स्थान पर फैला दें। ताकि इनमे एक समान 5-7 मि.मि. लम्बे पूर्व अंकुरित कल्ले निकल जाये, यदि 10-12 दिन से ज्यादा पहले आलू शीतगृह से निकालते हैं तो कल्ले ज्यादा लम्बे हो जाएंगे व बुवाई के समय टूटेंगे तथा देरी से निकालने पर कल्ले बिलकुल छोटे होंगे व अंकुरण देर से होगा।
  • 25-40 ग्राम वजन के कंद बुवाई के लिए उपयुक्त रहते हैं। उन आलू कंदों को जिनका वजन 50 ग्राम से अधिक हो, काटकर प्रयोग में ले सकते हैं इस बात का ध्यान रखे की आलू के टुकड़ो को 0.2% मेंकोजेब के घोल में तकरीबन 10-15 मिनट तक डुबोए तत्पछ्चात निकालकर छायादार एवं हवादार स्थान पर 24-34 घंटे रखकर बाद में बो दे, ध्यान रहें की कटा हुआ भाग भूमि की तरफ निचे हो। जिन क्षेत्रों में भूमि जनित रोग लगने की संभावना अधिक हो वहां साबुत बीज आलू ही काम में लेने चहिए।

Read also:- तोरई की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

कंदो की मात्रा एवं कंद:-

बीज कंदो की मात्रा के आकार एवं भार के अनुसार घट-बढ़ सकती हैं परन्तु सामान्य परिस्तिथियों में स्वस्थ बीज कंद 25-40 ग्राम भार वाले तकरीबन 25-35 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पर्याप्त हैं।

बीज कंद उपचार:-

कंदो को काली रुसी (ब्लेक स्कर्फ) व अन्य कंद जनित एवं मृदा जनित रोगो से बचाव हेतु3% बोरिक अम्ल के घोल में 20-30 मिनट तक डुबोकर उपचारित करें। (घोल बनाने के लिए तेल वाला ड्रम या प्लास्टिक का बर्तन काम में लेवे। दवा को पहले थोड़े हल्के गर्म पानी में अच्छी तरह घोलकर फिर बाकि पानी में मिला देनी चाहिए ) या बुवाई से पूर्व आलुओं पर छिड़काव करें। तत्पश्चात छायादार स्थान पर सुखाकर बुवाई करें। एक बार बनाये घोल को 20 बार तक प्रयोग कर सकते हैं।

बीज कंदों को 1 ग्राम इमीडेक्लोप्रिड प्रति लीटर पानी में घोल बना कर 10 मिनट डुबोने के बाद बुवाई करने से तना ऊतक क्षय रोग पर प्रभावी नियंत्रण होता हैं। आलू की अधिक उपज प्राप्त करने के लिए 1% यूरिया एवं 1% सोडियम बाई कार्बोनेट के घोल में 5 मिनट तक डुबोये, इसके बाद कंदों को एजेक्टोबेक्टर एवं पि.एस.बी. जीवाणु कल्चर से उपचारित कर बुवाई करें।

Read also:- ब्रोकली की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

बीज आलू की सुषुप्तावस्था तोडना:-

आलू की खुदाई के कुछ दिनों तक आलू को बिजाई हेतु प्रयोग नहीं कर सकते क्यंकि यह सुषुप्तावस्था में रहते हैं। परन्तु कई बार ऐसी परिस्थिति आ जाती हैं की कुछ दिन पहले खुदाई किए गए ताजे आलू को दूसरी फसल लेने हेतु बुवाई करनी पड़ती हैं। अतः साबुत बीज आलू की सुषुप्तावस्था तोड़ने के लिए आलू पर 3-4 से.मी. लम्बे व 1-2 मि.मि. गहरे 3-4 कट लगाए।

इस बात का ध्यान रखे की कट लगाते समय आँखों को नुकसान न हो। साबुत व कटे आलू के टुकड़ों को एक घंटे तक 1% थायोयूरिया और एक मिलीग्राम जिब्रेलिक अम्ल प्रति लीटर घोल में 1 घंटे तक उपचारित करें। 40 की.ग्रा. आलू को एक ही बार में भिगोने के लिए 20 लीटर घोल पर्याप्त रहेगा। भिगोने के बाद उन्हें बाहर निकालकर सुखाए तथा 1-2 सप्ताह की अवधि में बुवाई कर दे।

Read also:- अचारी मिर्च की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

बुवाई का तरीका:-

आलू की बुवाई मुख्यतः दो तरीकों से की जाती हैं।

  • पहले 15-20 से.मी. ऊँची मेड़ें, 75-80 से.मी. दुरी पर बना लेते हैं। तत्प्श्चात उन्हें दोनों तरफ या बिच में 15-20 से.मी. दुरी पर आलू 6-7 से.मी. गहराई पर खुरपी की सहायता से लगा देते हैं।
  • दूसरी विधि में खेत में उथली नालिया (5-7 से.मी. गहरी) बनाकर, उनमे 20-20 से.मी. दुरी पर बीज आलू रखकर दो कतारों के बिच हल चलाकर आलू को दबा देते हैं अथवा नालिया बनाए बिना ही आलू 5-7 से.मी. गहरा बोकर मेड बना देते हैं।

पहाड़ी क्षेत्रों में आलू की बिजाई/बुवाई 4 मीटर छोड़ी छोटी-छोटी क्यारियों में लाइने (75-80 से.मी. की दुरी) बनाकर करनी चाहिए तथा ढलान 4-10% से अधिक नहीं होना चाहिए। लाइनों में आलू बीज को पहले बिछाकर मिट्टी में दबा देना चाहिए तथा उन पर फावड़े की mdd से लगभग 3-4 इंच (4-10 से.मी.) मिट्टी चढ़ा देनी चाहिए।

उन्नत किस्में:-

उचित किस्म का चुनाव एक महत्वपूर्ण कार्य हैं क्योंकि गलत किस्म के चुनाव से न केवल उत्पादकता प्रभावित होती हैं बल्कि आर्थिक हानि भी होती हैं अतः जलवायु विशेष के अनुसार उचित किस्म का चयन करना चाहिए। तालिका-१ में किस्मों व जलवायु क्षेत्र की उत्पादकता के बारे में जानकारी दी जा रही हैं।

Read also:- कलम रोपण पद्धति- बिना बीज उगाए टमाटर

उर्वरक एवं खाद:-

आलू उत्पादन में फसल भूमि से काफी मात्रा में पोषक तत्वों को ले लेती हैं अतः पोषक तत्वों की कमी होने से उपज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता हैं। सामान्यतया मृदा परीक्षण के आधार पर उर्वरकों को देना चाहिए। यदि मृदा परीक्षण संभव न हो पाए तो ऐसी स्थिति में 25 टन गोबर की खाद खेत की तैयारी करते समय भूमि में भली प्रकार मिलाए।

तत्पश्चात पहाड़ी क्षेत्रों में नत्रजन, फास्फोरस, पोटाश क्रमशः 150–200: 40–100: 40–100 की.ग्रा./हक. की दर से एवं मैदानी क्षेत्रों में नत्रजन, फास्फोरस, पोटाश क्रमशः 150-14.5: 100-125: 100-125 की.ग्रा./हैक. की दर से देना चाहिए। पहाड़ी क्षेत्रों में नत्रजन की 2/3 मात्रा, फास्फोरस व पोटाश की पूरी मात्रा बुवाई के समय डालना चाहिए एवं शेष १/३ नत्रजन मिटटी चढ़ाते समय डालना चाहिए। जबकि मैदानी क्षेत्रों में नत्रजन की 1/2 मात्रा, फास्फोरस व पोटाश की पूर्ण मात्रा बुवाई के समय डालना चाहिए।

ध्यान रखे की बुवाई पर नत्रजन प्राप्ति के लिए किसान खाद (कैल्शियम, अमोनियम नाइट्रेट) या अमोनियम सल्फेट और मिटटी चढ़ाते समय यूरिया उपयुक्त रहती हैं। बुवाई पर यूरिया प्रयोग न लेवे क्योंकि इससे अंकुर जल जाते हैं या कई बार कंद सड़ जाते हैं। याद रहे की यूरिया देने के तुरंत बाद सिंचाई न करें वरना नत्रजन बहकर जमीन में चला जाएगा। कुछ किसान नत्रजन की सारी मात्रा डी.ए.पी. देना हे तो फास्फोरस की मात्रा को सिफारिश अनुसार देवे व शेष नत्रजन को अमोनियम सल्फेट के माध्यम से देवे। हरी खाद व कालचक का उपयोग करने से भी उपज में आशातीत वृद्धि होती हैं अतः इसके उपयोग पर भी ध्यान देना चाहिए।

Read also:- गाजर की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

खरपतवार प्रबंधन:-

आलू की फसल में पाए जाने वाले खरपतवार लगभग 43 किग्रा. नत्रजन, 4 फॉस्फोरस एवं 49 किग्रा. पोटाश प्रति हेक्टेयर लेते है साथ ही ये पानी, प्रकाश व स्थान के लिए प्रतिस्पर्धा करते है। कुछ खरपतवार कीट एवं रोग पनपने में मदद करते है। इन सभी कारण से उपज में 10-60 प्रतिशत तक कमी आ जाती है।

अतः खरपतवार प्रबंधन पर ध्यान देना आवश्यक है आलू की फसल में मुख्य रूप से आने वाले खरपतवारों में पौआ, जंगली पालक, जंगली गाजर, जंगली हालो, बथुआ, कृष्णनील, सतगढिया आदि प्रमुख है। इनको मुख्य तीन तरीकों से नियंत्रित किया जा सकता है।

कृषि व शस्य क्रियाओं द्वारा:-

  1. उचित फसल चक्र अपनाना
  2. गर्मी की गहरी जुताई
  3. उचित मात्रा में खाद व उर्वरक देना एवं लाइन में ही उर्वरक डालना
  4. पलेवा करके बुवाई करना

Read also:- सब्जियों की जैविक विधि द्वारा उन्नत खेती

यांत्रिक विधि से:-

यांत्रिक विधि से खरपतवारों का नियंत्रण यंत्रो द्वारा किया जाता है। जैसे निराई-गुड़ाई, फसल बुवाई के 20-25 दिन बाद करना तथा 30-35 दिन बाद मिटटी चढ़ाना आदि।

रासायनिक विधि द्वारा:-

खरपतवारनाशी दवाओं को उपयोग करने के समय के अनुसार तीन श्रेणी में विभाजित कर सकते है।

आलू की बुवाई से पूर्व:-

फ्लूक्लोरेलिन को 10 किग्रा./हेक्टेयर की दर से भूमि में मिलाये।

आलू की बुवाई के बाद:-

परन्तु आलू एवं खरपतवार उगने से पहले इस श्रेणी में मुख्य रूप से निम्न खरपतवारनाशक आते है। बुवाई के 3-5 दिन बाद छिड़काव करते है। (सभी मात्राएं सक्रिय तत्व में)

  • मेट्रिब्यूजिन – 500 ग्राम प्रति हेक्टेयर (चौड़ी पत्ती व घास के लिए)
  • पेंडीमीथेलिन – लीटर प्रति हेक्टेयर (चौड़ी पत्ती व घास के लिए)
  • आसोप्रोट्यूरॉन- 500 ग्राम प्रति हेक्टेयर (केवल घास कुल के लिए)
  • एलाक्लोर- 1 लीटर प्रति हेक्टेयर (छोड़ी पट्टी एवं घास के लिए)
खरपतवारों के उगने के बाद:-
  • ऐसी अवस्था में पेराक्वाट 500-1000 ग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से अर्ली पोस्ट एमरजेन्स (आलू के 5% अंकुरण तक) के रूप में छिड़काव करें।
  • सभी दवाइयों को 400-1000 लीटर पानी/हेक्टेयर में घोल बनाकर छिड़काव करें।
  • मिट्टी चढ़ाना
  • आलू की फसल में यह एक बहुत ही जरूरी प्रक्रिया हैं। यदि इसको नहीं अपनाया जाये तो कंद बनने की प्रक्रिया धीमी हो जाती हैं एवं उपज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता हैं साथ ही सूर्य का प्रकाश कंदों पर पड़ने से उनमे हारपन (सोलेनिन) आ जाता हैं जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। अतः फसल बुवाई के 30-35 दिन बाद मिट्टी चढ़ाना चाहिए।

Read also:- पत्ता गोभी की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

आलू में जल प्रबंधन:-

आलू की फसल में अधिक जल की आवश्यकता होती हैं क्योंकि इसका जड़ विन्यास उथला हैं तथा यह कम समय, अधिक पत्तियों वाली फसल हैं। अतः पत्तियों को हराभरा व स्वस्थ रखने के लिए इनको लगातार उचित मात्रा में जल की आवश्यकता होती हैं। आलू की फसल में जल की मांग 400-600 मि.ली. हैं जो की जलवायु, मृदा प्रकार, किस्म एवं वृद्धिकाल पर निर्भर करती हैं। अतः पौधों की उचित वृद्धि व विकास के लिए 4-10 सिंचाइयों की आवश्यकता होती हैं।

समान्यतः पलेवा द्वारा तैयार खेत में आलू लगाने के बाद फसल नालियों को 3/4 भाग से ज्यादा न भरें। आलू की फसल से अच्छी पैदावार लेने के लिए मृदाओं में बुवाई के 4 दिन बाद एवं भारी मृदाओं में 4-10 दिन बाद प्रथम सिंचाई करें। साथ ही द्वितीय व तृतीय सिंचाई क्रमशः 20-21 दिन बाद एवं 30-35 दिन बाद (मिट्टी चढ़ाते समय) करें। ततपश्चात शेष सिंचाइयाँ भारी मृदाओं में 10-15 दिन बाद एवं हल्की मृदाओं में 4-10 दिन बाद करें। जैसे-जैसे फसल पकती जाए सिंचाई अंतराल बढ़ाते जाए। खुदाई से 15-20 दिन पूर्व सिंचाई बंद कर देवे अन्यथा उपज गुणवत्ता प्रभावित होगी।

यदि पाला पड़ने की संभावना हो तो हल्की सिंचाई करना लाभदायक रहता हैं।

यु तो आलू में सिंचाई हेतु परम्परागत क्यारी विधि ही काम में ली जाती हैं परन्तु यदि उन्नत विधियाँ फव्वारा या ड्रिप विधि काम में लेवे तो 40-50% जल की बचत होती हैं साथ ही पैदावार भी 25-50% बढ़ती हैं।

Read also:- मटर की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

डीहाल्मिंग:-

फसल के कंदो की त्वचा को मजबूत आधार प्रदान करने के लिए ऊपर के पत्तो को काटकर किस्मों अनुसार 45 एवं 90 दिन की अवस्था पर करते हैं। इसके 15 दिन बाद खुदाई करते हैं।

आलू की खुदाई:-

डीहाल्मिंग के 15 दिन उपरांत हाथ एवं ट्रेकटर द्वारा या हल के द्वारा खुदाई करते हैं। यदि आलू की त्वचा कच्ची हो तो खुदाई उचित अवस्था आने पर ही करें। साथ ही खुदाई के समय मिट्टी कंदों से अधिक न चिपके। मैदानी क्षेत्रों में खुदाई फरवरी मास तक कर लेनी चाहिए। क्योंकि अधिक तापमान होने पर काला गलन रोग की संभावना बढ़ जाती हैं।

Read also:- प्याज की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

आलू की ग्रेडिंग व सोर्टिंग (छटनी):-

उपज को व्यवस्थित करने के लिए ग्रेडिंग व सोर्टिँग करते हैं इसके लिए मुख्यतयाः तीन ग्रेड बनाते हैं।

  • प्रथम ग्रेड-45 ग्राम या इससे अधिक भार वाले कंद।
  • द्वितीय ग्रेड- 40-45 ग्राम तक के कंद।
  • तृतीय ग्रेड- 20 ग्राम में कम भार वाले (इन्हे बीज आलू की तरह काम नहीं ले सकते क्योंकि फसल में वायरस जनित रोग होने की संभावना बढ़ जाती हैं)
  • सोर्टिँग के समय कटे हुए, बीमारीग्रस्त व कीट से संक्रमित आलू को अलग छटनी कर देवे एवं इनका निस्तारण तुरंत करें।

आलू की उपज:-

सामान्यतः उपज किस्म व उनकी अवधि पर निर्भर करती हैं। 75-90 दिन की अवधि वाली से 200-250 क्विंटल/हेक्टेयर एवं 90-105 दिन की फसल अवधि वाली किस्मों से 250-300 क्विंटल.हेक्टेयर तक उपज प्राप्त होती हैं।

Read also:- टमाटर की खेती में सफल किसान महेंद्र जाट की कहानी

About the author

Vijay Dhangar