कृषि योजनाएं

कृषि उपकरणों पर अनुदान वितरण कार्यक्रम

कृषि उपकरण
Written by Vijay Dhangar

सरकार द्वारा प्रायोजित विभिन्न योजनाओं के तहत अनुमोदित उपकरणों की खरीद (Agriculture Implements subsidy) के लिए किसानों को उनकी श्रेणी के अनुसार कृषि उपकरणों पर 40% से 50% तक की अनुदान दिया जाता हैं।

कृषि उपकरणों पर अनुदान वितरण कार्यक्रम

पात्रता: –

  • हिदु अविभाजित परिवार के मामले में आवेदक के पास उसके नाम पर कृषि भूमि या राजस्व रिकॉर्ड में उसका नाम होना आवश्यक है।
  • सभी श्रेणियों के किसान लाभान्वित होंगे।
  • अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति, महिलाओं, बीपीएल, सीमांत, छोटे और अर्ध मध्यम किसानों को वरीयता दी जाएगी। “पहले आओ पहले पाओ” के आधार पर अपनी योग्यता तय करके अनुदान द्वारा पात्र को अनुदान दिया जाएगा।
  • जिन किसानों को किसी भी विभागीय योजना के तहत लाभ नहीं मिला है, उन्हें वरीयता मिलेगी।
  • ट्रैक्टर चालित कृषि उपकरणों के लिए अनुदान प्राप्त करने के लिए, आवेदक के नाम पर ट्रैक्टर का पंजीकरण होना चाहिए।
  • कोई भी किसान 3 साल की अवधि में एक बार अनुदान का लाभ उठा सकता है (उदाहरण- बीज सह उर्वरक ड्रिल, हल, थ्रेशर आदि)। एक किसान को सभी योजनाओं में अनुदान एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 3 विभिन्न प्रकार के कृषि उपकरणों तक सीमित होगी।

Read also:-मत्स्य पालन योजना एवं अनुदान राजस्थान में

कृषि उपकरणों अनुदान का प्रावधान: –

किसानों को अनुमोदित कृषि उपकरणों पर अनुदान सरकार के दिशानिर्देशों में तय सीमा के अनुसार प्रदान की जा सकती है। अनुदान के वार विवरण और कार्यान्वयन के लिए योजना विवरण उपलब्ध है -1।

आपूर्ति के स्रोत :-

कृषि उपकरणों की अनुदान केवल अधिकृत/ पंजीकृत केवीएसएस/ जीएसएस के माध्यम से खरीद पर प्रदान की जाएगी या पंजीकृत विनिर्माण/ आपूर्तिकर्ता राज्य का कोई भी जिला होगा।

Read also:-राजस्थान में प्रमुख सरकारी कृषि योजनाएं एवं अनुदान

कृषि उपकरणों की खरीद: –

हाथ से संचालित/ बैल द्वारा तैयार/ खरीदे गए बिजली से संचालित / ट्रैक्टर से तैयार किए गए कार्यान्वयन:-

किसान अधिकृत जिले कार्यालय से लिखित अनुमति के बाद पूर्ण भुगतान करके दरों के सौदेबाजी के बाद अधिकृत/ पंजीकृत जीएसएस/ केवीएसएस या पंजीकृत निर्माताओं/ आपूर्तिकर्ताओं से उपरोक्त उल्लिखित किसी भी खरीद को खरीद सकते हैं।

एनएफएसएम (दलहन) में स्थानीय पहल कार्यक्रम के तहत, किसान कुल लागत से अनुदान राशि की कटौती के बाद बीज भंडारण डिब्बे और जंगम थ्रेसिंग फर्श ऑफ़लाइन खरीद सकते हैं। अधिकृत/ पंजीकृत केवीएसएस/ जीएसएस से। लाभार्थी किसानों की सूची के साथ बिल के उत्पादन पर संबंधित केवीएसएस/ जीएसएस को अनुदान का भुगतान किया जाएगा।

अनुदान के लिए आवेदन जमा करने की समय सीमा: –

कार्यान्वयन की खरीद के बाद किसान को जल्द से जल्द आवेदन करना होगा। हालांकि वह संबंधित वित्तीय वर्ष के लिए अनुदान के लिए पात्र होगा।

Read also:-राष्ट्रीय बागवानी मिशन – योजना एवं अनुदान राजस्थान में

अनुदान के लिए आवेदन प्रक्रिया: –

अनुदान लेने के लिए, किसानों को आवश्यक राशि के साथ सभी आवश्यक दस्तावेज़ों की स्कैन की हुई प्रतियों के साथ ऑनलाइन आवेदन करना चाहिए, यदि कोई हो, तो अपने आस-पास के क्षेत्र में ई-मित्रा कियोस्क के माध्यम से। किसी भी जिले के कियोस्क की सूची www.emitra.gov.in की वेबसाइट से देखी जा सकती है। संबंधित कियोस्क द्वारा किसानों को अनुदान के लिए पंजीकरण की रसीद दी जाएगी। सभी प्रकार के उपकरणों पर अनुदान प्राप्त करने के लिए, बिल की स्वप्रमाणित प्रति, भामाशाह कार्ड/ आधार कार्ड की प्रतिलिपि, स्थानीय कार्यालय के कर्मचारियों/ अधिकारियों द्वारा अनुदान के दावे की प्रति, बचत बैंक खाते की पासबुक की छायाप्रति व अन्य आवश्यक दस्तावेज जमा करना अनिवार्य है।

अन्य जिले के पंजीकृत स्रोत से कृषि कार्यान्वयन की खरीद के मामले में, किसान को अनुदान के दावे के साथ संबंधित जिले में पंजीकरण का प्रमाण प्रस्तुत करना चाहिए।

Read also:-सूक्ष्म सिंचाई योजना एवं अनुदान राजस्थान में

अनुदान के दावों का निपटान: –

  • अनुदान के दावों का भुगतान केवल किसान के बैंक खाते में ऑनलाइन किया जाएगा।
  • अन्य जिलों के पंजीकृत स्रोत से सीधे खरीद के मामले में अनुदान के दावों के भुगतान की प्रक्रिया ऊपर की तरह ही होगी।
  • पंजीकृत निर्माताओं/ आपूर्तिकर्ताओं को कोई अनुदान भुगतान नहीं किया जाएगा।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें: –

ग्राम पंचायत स्तर – कृषि पर्यवेक्षक
पंचायत समिति स्तर – अस्थान। कृषि अधिकारी
उप जिला स्तर – सहायक निदेशक कृषि।
जिला स्तर – उप निदेशक कृषि, (विस्तार), जिला परिषद

Read also:-पशुपालन योजना एवं अनुदान राजस्थान में

About the author

Vijay Dhangar