जैविक खेती (Organic farming)

गोबर की खाद से क्यों उत्पादन ज्यादा होता है ?

गोबर की खाद
Written by Bheru Lal Gaderi

गोबर की खाद (Manure) से क्यों उत्पादन ज्यादा होता है ? उसे जानना बहुत जरूरी है ये बात भारत का हर किसान समझ जाए पूरा भारत दुबारा खुशहाल हो जाएगा।

गोबर की खाद जब हम खेत मे डालते है तो होता क्या है ?

दरअसल गोबर जो है वो बहुत तरह के जीव जन्तुओ का भोजन है और यूरिया भोजन नहीं जहर है आपके खेत मे एक जीव होता है जिसे केंचुआ कहते हैं केंचुआ को कभी पकड़ना और उसके ऊपर थोड़ा यूरिया डाल देना आप देखोगे केंचुआ तरफना शुरू हो जाएगा और तुरंत मर जाएगा।  जब हम टनों टन यूरिया खेत मे डालते है करोड़ो केंचुए मार डाले हमने यूरिया डाल डाल के।

गोबर की खाद

Read also – जैविक खेती कैसे करें पूरी जानकारी | Organic Farming Tips

केंचुआ करता क्या है ?

केंचुए मिट्टी को नरम बनाते है पोला बनाते है उपजाऊ बनाते हैं।

केंचुए का कम क्या है?

ऊपर से नीचे जाना, नीचे से ऊपर आना पूरे दिनमे तीन चार चक्कर वो ऊपर से नीचे, नीचे से ऊपर लगा देता है।  अब जब केंचुआ नीचे जाता तो एक रास्ता बनाते हुए जाता है और जब फिर ऊपर आता है तो फिर एक रास्ता बनाते हुए ऊपर आता है।

तो इसका परिणाम ये होता है की ये छोटे छोटे छिद्र जब केंचुआ तैयार कर देता है तो बारिश का पानी एक एक बूंद इन छिद्रो से होते हुए तल मे जमा हो जाता है। मतलब water recharging का काम पूरी दुनिया मे कोई करता है तो वो केंचुआ है जो यूरिया के कारण मर जाता है इसलिए यूरिया डालना मतलब किसान के लिए आत्मह्त्या करने के बराबर है।

जिस किसान के खेत मे यूरिया डालेगा तो केंचुआ मर जाएगा केंचुआ मर गया तो मिट्टी मे ऊपर नीचे कोई जाएगा नहीं तो मिट्टी कठोर होती जाएगी कड़क होती जाएगी मिट्टी और रोटी के बारे एक बात कही जाती है की इन्हे फेरतेरहो नहीं तो खत्म हो जाती है रोटी को फेरना बंद किया तो जल जाती है मिट्टी को फेरना बंद करो पत्थर जैसी हो जाती है।

मिट्टी को फेरने का मतलब समझते है? ऊपर की मिट्टी नीचे, नीचे की ऊपर, ऊपर की नीचे, नीचे की ऊपर ये केंचुआ ही करता है। केंचुआ किसान का सबसे बड़ा दोस्त है।

Read also – जीवामृत एवं नीमास्त्र बनाने की विधि एवं उपयोग

जैविक अपनाओ, खेत बचाओ:-

एक केंचुआ साल भर जिंदा रहे तो एक वर्ष मे 36 मीट्रिक टन मिट्टी को उल्ट पलटकर देता है और उतनी ही मिट्टी को ट्रैक्टर से उल्ट पलट करना पड़े तो सौ लीटर डीजल लग जाता है। 100 लीटर डीजल 4800 रूपये का आता है। मतलब एक केंचुआ एक किसान का 4800 रूपये बचा रहा है ऐसे करोड़ो केंचुए है सोचो कितना लाभ हो रहा है, इस देश को।

गोबर खाद डालने से फाइदा क्या होता है ?

रसायनिक खाद डालो केंचुआ मर जाता है गोबर का खाद डालो केंचुआ ज़िंदा हो जाता है, क्योंकि गोबर केंचुए का भोजन है। केंचुए को भोजन मिले वह अपनी जनसंख्या बढ़ाता है और इतनी तेज बढ़ाता है की कोई नहीं बढ़ा सकता भारत सरकार कहती है हम दो हमारे दो। केंचुआ नहीं मानता इसको।

एक- एक केंचुआ 50- 50 हजार बच्चे पैदा करके मरता है। एक प्रजाति का केंचुआ तो 1 लाख बच्चे पैदा करता है। तो वो एक ज़िंदा है तो उसने एक लाख पैदा कर दिये अब वो एक एक लाख आगे एक- एक लाख पैदा करेंगे करोड़ो केंचुए हो जाएंगे अगर गोबर डालना शुरू किया।

तो ज्यादा केंचुआ होंगे तो ज्यादा मिट्टी उलट- पलट होगी तो फिर छिद्र भी ज्यादा होंगे तो बारिश का सारा पानी मिट्टी मे धरती मे चला जाएगा।  पानी मिट्टी मे चला गया तो फालतू पानी नदियो मे नहीं जाएगा, नदियो मे फालतू पानी नहीं गया तो बाढ़ नहीं आएगी तो समुद्र मे फालतू पानी नहीं जाएगा।

इस देश का करोड़ो -करोड़ो रूपये का फाइदा हो जाएगा। इसलिए आप किसानो को समझाओ की भाई गोबर की खाद डालो एक ग्राम भी उत्पादन कम नहीं होगा।

Read also – खेती में बायोपेस्टिसाइड का उपयोग एवं महत्व

About the author

Bheru Lal Gaderi

नमस्ते किसान भाइयों मेरा नाम भेरू लाल गाडरी है। इस वेबसाईट को बनाने का हमारा मुख्य उद्देश्य किसान भाइयों को खेती-किसानी, पशुपालन, विभिन्न कृषि योजनाओं आदि के बारे में जानकारी प्रदान करना है।