बागवानी

बागवानी के शौक से चमकेगी करियर की राह

बागवानी के शौक से चमकेगी करियर की राह
Written by Vijay Dhangar

अगर आपको बागवानी (Horticulture) करना पसंद है तो इस फील्ड में एक शानदार करियर का निर्माण कर सकते हैं आइए जानते हैं इसके बारे में:-

भारत में कृषि के प्रति लोगों में दिलचस्पी खत्म हो रही है। लगातार गिरते जलस्तर और वर्षा की कमी से आधुनिक तकनीक आधारित बागवानी (इस्माल फार्मिंग) इन दिनों एकमात्र उपाय रह गया है। इस तकनीक आधारित हॉर्टिकल्चर ने किसानों को फिर से समृद्ध बनाना शुरू कर दिया है। बागवानी की शाखा में पौधों, सब्जियों, फूलों, फलो, जड़ी-बूटियों, सजावटी पौधों की खेती, नर्सरी आदि को अपनाकर अच्छा पैसा कमाया जा सकता है।

बागवानी के शौक से चमकेगी करियर की राह

शायद यही वजह है कि चीन ने कृषि के लिए हाल ही में गांवों से पलायन कर शहरों में आए लाखों किसानों को फिर से खेती करने के लिए गांव में भेज दिया। इसी के बल पर चीन ने अपनी जनसंख्या के 10 लाख से अधिक लोगों को कृषि और हॉर्टिकल्चर के माध्यम से गरीबी रेखा से उठाकर संपन्न बना दिया है।

योग्यता

एक एग्रीकल्चरिस्ट का कार्य मुख्यतः फलों, फूलों, सब्जियों, मसालों, सजावटी व औषधीय गुण वाले पौधों इत्यादि के प्रजनन,उत्पादन,  स्टोरेज, प्रोसेसिंग से संबंधित होता है। बसगवानी के लिए स्नातक स्तर से पढ़ाई शुरू होती है। भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित/जीव विज्ञान कक्षा/कृषि विज्ञानं विषयों के साथ विज्ञानं संकाय से कक्षा बारहवीं उत्तीर्ण होने के साथ ही बगवानी में स्नातक की डिग्री का विकल्प चुन सकते हैं। कृषि में डिप्लोमा करने के लिए भी 12 विज्ञानं संकाय से उत्तीर्ण होना आवश्यक हैं। बीएससी कोर्स 60% अंक से उत्तरं करने के बाद बगवानी में एमएससी और पीएचडी भी कर सकते हैं। बहुत से कॉलेज/संस्था बागवानी में डिप्लोमा कोर्स भी करवाते हैं।

यह भी पढ़ें:- किन्नू के पौधे में कीट व्याधि प्रबंधन

बागवानी के क्षेत्र में स्वरोजगार

कई ऐसे लोग हैं जिन्होंने मोटी तनख्वाह की नौकरी छोड़कर हॉर्टिकल्चर को अपनाया है और करोड़ों की कमाई कर रहे हैं। बागवानी सलाहकार के रूप में उद्यान आदि पर सलाह देने, डिजाइन, मूल्यांकन, पर्यवेक्षण का कार्य भी आप कर सकते हैं। फल, फूल, सब्जी, सजावटी पौधों की व्यवसायिक नर्सरी चला सकते हैं। सब्जियों/पुष्प फसलों के बीज उत्पादक, फ्लोरल डेकोरेटर/फ्लोरिस्ट शॉप, बागवानी सेवा कॉन्ट्रैक्टर, मशरूम उत्पादन, बीज डीलर/मर्चेंट, प्रोपराइटर कोल्ड स्टोरेज, बागवनी के प्रसंस्करण कार्य आदि के रूप में बागवानी के लिए राज्य और केंद्र सरकार भी मदद करते हैं।

करियर

आप पूर्णकालिक या अंशकालिक बागवानी विशेषज्ञ बन सकते हैं। हॉर्टिकल्चर में प्रशिक्षण ले चुके अभ्यार्थियों के पास सरकारी और गैर सरकारी नौकरियों के साथ खुद की खेती का विकल्प होता है। कृषि वैज्ञानिक, प्रोफेसर, रीडर, कृषि केन्द्रो में ऑर्गेनाइजर के रूप में अपना करियर शुरू कर सकते हैं। इसके अलावा राज्य लोक सेवा आयोग के जरिए उद्यान अधिकारी। कृषि अधिकारी, तकनीकी अधिकारी, फल और सब्जी निरीक्षक, उद्यान पर्यवेक्षक, कृषि विकास अधिकारी के पदों पर भर्ती की जाती है।

यह भी पढ़ें:- एग्रीकल्चर में बनाएं शानदार करियर

यहां से कर सकते हैं कोर्स

श्री कर्ण नरेंद्र कृषि विश्वविद्यालय, जोबनेर

https://sknau.ac.in

स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विद्यालय, बीकानेर,

https://raubikaner.org

महाराणा प्रताप कृषि एवं तकनीकी विश्वविद्यालय, उदयपुर

www.mpuat.c.in

कृषि विज्ञान विश्वविद्यालय, बेंगलोर

https://uasbangalore.edu.in

इलाहाबाद कृषि संस्थान, इलाहाबाद

https://allahabad.kvky.in

कोलकाता कृषि विश्वविद्यालय, कोलकाता

https://education.icar.gov.in

केरल कृषि विश्वविद्यालय

www.kau.in

यह भी पढ़ें:- कपास में गुलाबी इल्ली का प्रकोप एवं बचाव

About the author

Vijay Dhangar

Leave a Comment