कृषि योजनाएं पशुपालन

डेयरी खरीदेगी 86 रुपए प्रति लीटर दूध,अब तक की सर्वाधिक दर

86 रुपए प्रति लीटर दूध
Written by Bheru Lal Gaderi

डेयरी खरीदेगी 86 रुपए प्रति लीटर दूध, अब तक की सर्वाधिक दर चित्तौड़ प्रतापगढ़ डेयरी नवरात्र से किसानों को तोहफा देते हुए 810 रुपए किलो फैट से दूध खरीदेगी। इससे हजारों किसानों को फायदा होगा।

86 रुपए प्रति लीटर दूध

Read also – 25 गायों के डेयरी फार्म से बेंचते हैं 3 लाख का दूध

86 रुपए प्रति लीटर:-

डेयरी अध्यक्ष बद्रीलाल जाट जगपुरा ने बताया कि यदि कोई पशुपालक 10 की फेट का दूध सरस डेयरी को बेचता है तो फेट के अनुसार 81 रुपए डेयरी एवं दुग्ध उत्पादक संबल योजना से 5 रुपए प्रति लीटर मुख्यमंत्री अनुदान राशि के साथ पशुपालकों को 86 रुपए प्रति लीटर मूल्य मिलेगा।

Read also – डेयरी फार्म से बोतल बंद दूध बेच रहा है युवा किसान

सर्वाधिक दर:-

जो कि चित्तौड़गढ़ डेयरी बनने के बाद अब तक की सर्वाधिक दर है। वर्तमान में चित्तौड़ डेयरी में प्रतिदिन 1 लाख 80 हजार लीटर दूध आ रहा है। डेयरी के दूध की बिक्री 70 हजार लीटर ही है, फिर भी पशुपालकों के हितों को ध्यान में रखते हुए खरीदी की रेट वृद्धि की गई है। उन्होंने बताया कि वर्षाकाल में दूध बढ़ता है, लेकिन खपत कम होती है, फिर भी रेट बढ़ाने के निर्णय से पशुपालकों को लाभ होगा। चेयरमैन ने बताया कि पशुपालकों के हित में डेयरी द्वारा अनेक योजनाओं को लागू करते हुए जिले में श्वेत क्रांति को बढ़ावा देने के लिये प्रयास किए जा रहे हैं, जिन्हें आगे भी जारी रखा जाएगा।

Read also – सेक्ससेल तकनीक अब गाय केवल बछड़ी को ही देगी जन्म

एक साल में ही खरीद दर में 19 रुपए तक का उछाल:-

डेयरी चेयरमैन बद्रीलाल जगपुरा ने बताया कि अप्रैल 2021 में 620 रुपए फैट दर थी जो अब 810 रुपए कर दी गई है। इससे किसानों को 190 रुपए किलो फैट यानी 19 रुपए लीटर का फायदा हो रहा है। दूध बेचने की दर में विशेष तौर पर गोल्ड दूध जो एक साल पहले 58 रुपए लीटर था, उसमें केवल दो रुपए बढ़ाए गए थे।

इसी के साथ ही सचिव प्रोत्साहन राशि योजना बद्रीलाल जगपुरा के तहत 20 पैसे प्रति लीटर सचिवों को प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। सचिवों का बीमे के तहत साधारण मृत्यु पर भी पांच लाख रुपए का प्रावधान है। आमजन जो डेयरी में दूध देता है, यदि उसकी साधारण मृत्यु किसी कारण से होती है तो ऐसे केस में भी 40 हजार रुपए डेयरी से देने का प्रावधान रखा है।

Read also – पशुपालन योजना राजस्थान में एवं अनुदान

About the author

Bheru Lal Gaderi

1 Comment

Leave a Reply